जितिन प्रसाद समेत 7 मंत्रियों ने शपथ ली: चुनाव से पहले जातीय संतुलन साधने की कवायद, छोटी जातियों पर फोकस 

0
694

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी ने यूपी में जातीय संतुलन को साधने की कवायद में जुट गए हैं। जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिमंडल विस्तार में यूपी के जातीय समीकरण का पूरा खयाल रखा था ठीक उसी तरह योगी ने भी छोटी-छोटी जातियों को प्रतिनिधित्व देने का काम किया है। योगी सरकार का पूरा फोकस गैर यादव जातीय समीकरण पर ही है। आने वाले समय में अब सरकार इन चेहरों के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूद में जितिन प्रसाद समेत सात मंत्रियों ने शपथ ली।

 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव भाजपा के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके परिणाम 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए टोन सेट करने की संभावना है। भाजपा को हाल ही में पश्चिम बंगाल में भारी राजनीतिक पूंजी और मानव संसाधन लगाने के बावजूद भारी हार का सामना करना पड़ा था। इससे पहले मोदी ने जब कैबिनेट का विस्तार किया था तब यूपी का खास खयाल रखा गया था। केंद्र में भाजपा के उत्तर प्रदेश से 84 सांसद हैं- लोकसभा में 62 और राज्यसभा में 22, जबकि उसके सहयोगी अपना दल के दो सांसद हैं। यह पहली बार है जब उत्तर प्रदेश को केंद्र सरकार में इतना बड़ा प्रतिनिधित्व मिला है। 

 जितिन प्रसाद एकलौता ब्राह्मण चेहरा जितिन प्रसाद का नाम काफी समय से चल रहा था। वह हाल ही में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। यूपी में ब्राह्मणों की गिनती बिरादरी के बड़े युवा चेहरों के नेताओं में होती है। जितिन पूर्व केंद्रीय मंत्री और यूपी कांग्रेस के बड़े नेता हैं। इससे पहले वे दो बार सांसद रह चुके हैं, यूपीए एक और दो में केंद्र सरकार में राज्य मंत्री रह चुके हैं। 2004 में शाहजहांपुर लोकसभा सीट से पहली बार सांसद बने और 2008 में केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री बने। जितिन प्रसाद जितेंद्र प्रसाद के पुत्र हैं। धर्मवीर सिंह और संगीता बलवंत मंत्री पद की शपथ लेने वालों में विधान परिषद के सदस्य धर्मवीर सिंह के नाम की भी चर्चा है. जनवरी 2021 में विधान परिषद के सदस्य बने। वह पश्चिमी यूपी से हैं और पिछड़े वर्ग समुदाय से आते हैं। वर्तमान में वे माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष हैं और बोर्ड के कई कार्यक्रम कर चुके हैं। 

उन्होंने प्रदेश भाजपा में कई महत्वपूर्ण पदों की जिम्मेदारी का निर्वहन किया है। वहीं पूर्वांचल के गाजीपुर जिले की सदर सीट से विधायक संगीता बलवंत बिंद पिछड़ी जाति बिंद समुदाय से आती हैं। वह पहली बार विधायक चुनी गई हैं। छात्र राजनीति और पंचायत राजनीति से सक्रिय राजनीति में आए। संगीता युवा नेता हैं और उनकी उम्र करीब 42 साल है। छत्रपाल सिंह गंगवार, पलटू राम को मिली जगह इस विधानसभा चुनाव में कुर्मी बिरादरी का सवाल काफी संभावित है, इसी वर्ग से छत्रपाल सिंह गंगवार के मंत्री बनने की संभावना है. वह बरेली जिले के बहेरी विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। वह 2017 में दूसरी बार विधायक चुने गए। वर्तमान में भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं और उनकी उम्र लगभग 65 वर्ष है। वह 1980 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में हैं और अतीत में प्रचारक थे। 

वहीं दूसरी ओर अवध विश्वविद्यालय से एमए पास पलटु राम बलरामपुर जिला सदर की एससी सीट से विधायक हैं और बसपा के टिकट पर 2007 का चुनाव भी लड़ चुके हैं। इसके अलावा पश्चिमी यूपी के मेरठ के हस्तिनापुर से विधायक दिनेश खटीक आरएसएस के स्वयंसेवक हैं, उनके पिता भी संघ कार्यकर्ता हैं। दिनेश खटिक और संजय गौड ने ली शपथ मेरठ में विधायक दिनेश खटीक मवाना थाना क्षेत्र के कस्बा फलावदा के रहने वाले हैं। दिनेश खटिक ने 2017 में पहली बार भाजपा की ओर से हस्तिनापुर विधानसभा से चुनाव लड़ा था। पहली ही बार में दिनेश खटीक ने बसपा प्रत्याशी योगेश वर्मा को पराजित कर जीत हासिल की थी। इसके अलावा संजय गौड ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ ली है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here