सावधान! दोपहिया चालक भूलकर भी ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर जाएं

0
203

गाजियाबाद
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे (Eastern Peripheral Expressway) पर हादसों को रोकने के लिए विदेशी तकनीकी से सुरक्षा का खास ध्यान रखा जा रहा है। स्पेन की कंपनी ने सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इन कैमरों से प्रत्येक वाहन पर स्पष्ट नजर रहती है। उनके नंबर और स्पीड आसानी से दिखाई देते हैं। इन सीसीटीवी कैमरों से लेकर कंट्रोल रूम तक स्पेन का सॉफ्टवेयर है। इसके अलावा यहां दोपहिया वाहन वालों पर भी खास नजर रखी जा रही है और नियम तोड़ने पर कार्रवाई की जा रही है। दरअसल, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर ऑटो और दोपहिया वाहनों के चलने पर प्रतिबंध है। इसके बाद भी दोपहिया वाहन चालक इस पर सफर कर रहे हैं। एनएचएआई का स्पष्ट आदेश है कि टोल से किसी भी दोपहिया वाहन चालक को एक्सप्रेस-वे पर न चढ़ने दिया जाए। जबर्दस्ती करने पर टोलकर्मी दोपहिया वाहन चालक का वीडियो बनाकर कंट्रोल रूम में देंगे। इसके बाद उसे ट्रैफिक पुलिस को भेज दिया जाएगा, ताकि चालान किया जा सके। यह व्यवस्था शुरू हो गई है। विदेशी तकनीकी से रखा जा रहा सुरक्षा का ध्यान : कुंडली से पलवल तक करीब 135 किलोमीटर लंबा ईस्टर्न पेरिफेरल है। यह बागपत और गाजियाबाद से जा रहा है। एक्सप्रेसवे पर हर किलोमीटर पर सीसीटीवी कैमरे हैं। स्पेन की कंपनी ने कैमरे लगाए हैं। हालांकि इसकी भारत की कंपनी भी साझेदार है। सॉफ्टवेयर और अन्य व्यवस्था स्पेन की कंपनी की है। सुंदरदीप कॉलेज के पास कंट्रोल रूम बनाया गया है। यहां स्पेन कंपनी के कर्मचारी नौकरी कर रहे हैं। सुरक्षा के लिहाज से एक्सप्रेस-वे पर एकदम विदेशी तकनीकी अपनाई गई है।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर ट्रैफिक पुलिस अलर्ट
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर हादसे में पांच मौत के बाद ट्रैफिक पुलिस अलर्ट है। एनएचएआई ने भी कई जगह मार्शल लगाए हैं, लेकिन खंड दो में डासना के पास ही मार्शल दिखाई देते हैं, अन्य जगहों से मार्शल नदारद रहते हैं। हालांकि, ट्रैफिक पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है। शनिवार को सभी जगह पुलिस अलर्ट थी। गलत दिशा में चलने वाले वाहनों के चालान किए जा रहे थे। गलत दिशा में वाहन चलाने पर दो हजार रुपये तक का चालान किया गया।

चोरी की घटना रोकने के लिए गश्त बढ़ाई
ईस्टर्न पेरिफेरलवे पर चोरी की घटनाएं लगातार हो रही हैं। पूर्व में सीसीटीवी कैमरे, बैट्री और केबल चोरी हो चुके हैं। इस तरह की घटनाएं रोकने के लिए गश्त बढ़ाई गई है। एनएचएआई ने पुलिस से भी गश्त कराने का अनुरोध किया है। डासना पर ज्यादा फोकस रखा जा रहा है क्योंकि यहां चोरी की ज्यादा घटनाएं हुई हैं।
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here