बाइडेन-कमला हैरिस से मुलाकात, यूनाइटेड नेशंस में संबोधन, बेहद व्यस्त रहेगा पीएम मोदी का यूएस दौरा 

0
141

वॉशिंगटन
भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन दिनों की अतिव्यस्ततम यात्रा पर अमेरिका जाने वाले हैं, जहां वो अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस से मुलाकात करेंगे। कमला हैरिस से मुलाकात के वक्त एप्पल कंपनी के सीईओ टॉम कुक भी मौजूद रहेंगे। पीएम मोदी का ये अमेरिकी दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है, खासकर क्वाड की बैठक को देखते हुए। 
पीएम मोदी का अमेरिका दौरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका की तीन दिवसीय यात्रा के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (24 सितंबर) और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस (23 सितंबर) दोनों के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। इसके बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 25 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे। व्हाइट हाउस ने अमेरिकी राष्ट्रपति और पीएम मोदी की बैठक को लेकर घोषणा की है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और कमला हैरिस के साथ नरेंद्र मोदी की पहली व्यक्तिगत बैठक होगी। वह 2014 में प्रधान मंत्री के रूप में अपनी पहली अमेरिका यात्रा पर जो बाइडेन से पहले मिले थे। जो बाइडेन उस समय राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन में उप-राष्ट्रपति थे। नरेंद्र मोदी और कमला हैरिस कभी नहीं मिले हैं, लेकिन दोनों नेताओं के बीच फोन पर बात हो चुकी है। 

क्वाड की बैठक में होंगे शामिल द्विपक्षीय वार्ता के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जो बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के स्कॉट मॉरिसन और जापान के योशीहिदे सुगा के साथ क्वाड नेताओं के पहले व्यक्तिगत शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे, जिसकी मेजबानी व्हाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा की जा रही है। क्वाड शिखर सम्मेलन के बाद जो बाइडेन और जापानी पीएम योशीहिदे सुगा के बीच द्विपक्षीय बैठक होने की उम्मीद है। चारों नेताओं ने मार्च में अपना पहला क्वाड शिखर सम्मेलन आयोजित किया था, और इसकी मेजबानी भी अमेरिकी राष्ट्रपति ने की थी। हालांकि, उस वक्त क्वाड की बैठक वर्चुअल हुई थी। क्वाड की बैठक में कोरोना महामारी और वैश्विक वैक्सीन आपूर्ति, जलवायु संकट, उभरती प्रौद्योगिकियों और साइबर स्पेस पर साझेदारी और एक स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक को बढ़ावा देने के चारों देशों के संयुक्त प्रयासों पर चर्चा करने की उम्मीद है। कंपनियों के सीईओ से मुलाकात राजनीतिक मुलाकातों के बाद भारतीय प्रधानमंत्री अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के सीईओ से भी मुलाकात करेंगें। 

अमेरिका और भारतीय राजनयिक हलकों के लोगों के अनुसार, मोदी 23 सितंबर को शीर्ष अमेरिकी कंपनियों के पांच मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ आमने-सामने भी मिलेंगे। जबकि एप्पल के सीईओ टिम कुक के उन पांच में से एक होने की उम्मीद है जो भारतीय पीएम से मुलाकात करेंगे। वाशिंगटन में अन्य नामों को अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है। 23 सितंबर को ही पीएम मोदी की जापान के पीएम सुगा और ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन के साथ द्विपक्षीय बैठकें भी होंगी। क्या 'ऑकस' से कमजोर होगा क्वाड ? पिछले हफ्ते अमेरिका ने ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के साथ मिलकर 'ऑकस' गठबंधन का निर्माण किया है। लिहाजा कई विशेषज्ञ आशंका जता रहे हैं, कि कहीं क्वाड को कमजोर तो नहीं किया जा रहा है। जिसको लेकर विशेषज्ञों में अलग अलग राय है। कुछ विश्लेषकों का कहना है कि ऐसी संभावना नहीं दिख रही है कि ऑकस क्वाड को कमजोर करेगा। 

विश्लेषकों के मुताबिक, ऑकस वास्तव में चीन और इंडो-पैसिफिक पर ध्यान केंद्रित करते हुए ऑस्ट्रेलिया को अमेरिका/यूके से आठ परमाणु संचालित पारंपरिक रूप से सशस्त्र पनडुब्बियों को खरीदने की अनुमति देकर रणनीतिक महत्व का ध्यान रखता है। क्वाड के पास लचीला वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला बनाने के एजेंडे के साथ इंडो-पैसिफिक के आसपास निर्मित एक दृष्टि है, जो केवल एक एशियाई देश पर निर्भर नहीं है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here