मुख्यमंत्री ने किया फुटबाल, कबड्डी, तींरदाजी और एथलेटिक्स अकादमी का शुभारंभ

0
118

रायपुर। बिलासपुर में खेल प्रशिक्षण अकादमी की 15 साल पुरानी परिकल्पना को मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने साकार करते हुए प्रदेश के खिलाडियों और खेल प्रेमियों को बड़ी सौगात दी है। उन्होंने आज बिलासपुर और रायपुर में लगभग 42 करोड़ 14 लाख रूपए की लागत से नई खेल सुविधाओं का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। इनमें मुख्य रूप से फुटबाल, कबड्डी, तीरंदाजी और एथलेटिक्स की अकादमी, दो खेल छात्रावास, एक तीरंदाजी प्रशिक्षण उपकेन्द्र और एथलेटिक्स के लिए सिंथेटिक ट्रैक एण्ड फील्ड शामिल हैं। इसके साथ ही बिलासपुर में एथलेटिक्स, तीरंदाजी और हॉकी अकादमी के लिए खिलाडियों का राज्य स्तरीय चयन 11, 12 और 13 अक्टूबर को होगा।

मुख्यमंत्री आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से कहा कि आज का यह दिन राज्य के खिलाडियों, खेल प्रशिक्षकों, खेल-प्रेमियों और युवाओं के लिए बड़ी उपलब्धियों वाला है। उन्होंने कहा कि खेल सुविधाओं के विस्तार के साथ-साथ हमको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि खेलों की सारी गतिविधियां केवल शहरों तक सिमट कर न रह जाएं। गांवों के खेल-संस्कार को जीवित रखकर हम अपने शहरों के खेल संस्कार को भी जीवित रख पाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के बड़े शहरों में प्रारंभ की जा रही खेल-अकादमियों, खेल के अच्छे मैदानों, अच्छे प्रशिक्षकों और खेल अधोसंरचनाओं का लाभ ग्रामीण प्रतिभाओं को मिलना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ में खेल सुविधाओं को आगे बढ़ाने के लिए राज्य सरकार पैसों की कोई कमी नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन किया गया है। इस प्राधिकरण की समिति में जल्द ही खिलाडियों की नियुक्ति की जाएगी। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य में खेलों के विकास और खिलाडियों को प्रोत्साहित करने के लिए पुलिस और वन विभाग की तरह अन्य विभागों में भी खिलाडियों की नियुक्ति का प्रावधान किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में राजीव गांधी युवा मितान क्लब योजना शुरू की गई है। राज्य में 13 हजार 269 राजीव गांधी युवा मितान क्लब गठित किए जा रहे हैं। इन क्लबों के माध्यम से सांस्कृतिक एवं खेल गतिविधियों को बढ़ावा मिलने के साथ-साथ युवाओं में नेतृत्व क्षमता का भी विकास होगा। स्वस्थ, सशक्त, ऊजार्वान और प्रतिभासंपन्न युवा ही हमारा भविष्य हैं। युवाओं के वर्तमान और भविष्य का निर्माण करते हुए ही हम नवा-छत्तीसगढ़ के अपने सपने को साकार कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि बिलासपुर में एथलेटिक्स, तीरंदाजी और हॉकी अकादमी के लिए खिलाडियों का राज्य स्तरीय चयन आगामी 11, 12 और 13 अक्टूबर को होगा।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री उमेश पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में खेल अधोसंरचना का विकास और खिलाडियों को दी जा रही सुविधाओं का सार्थक परिणाम आने वाले समय में मिलेगा। प्रभारी मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि खेलकूद की बहुप्रतिक्षित मांगें आज पूरी हुई है। उन्होंने स्वर्गीय श्री बी.आर. यादव के नाम पर बिलासपुर स्टेडियम का नामकरण करने और वहां खेल की अकादमियों की शुरूआत के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया।

सांसद श्री अरूण साव, छत्तीसगढ़ पर्यटन मण्डल के अध्यक्ष श्री अटल श्रीवास्तव, ससंदीय सचिव श्रीमती रश्मि आशीष सिंह, छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के महासचिव श्री गुरूचरण होरा सहित विभिन्न खेल संघों के पदाधिकारी, खिलाड़ी कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त किए और कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में खेल को बढ़ावा देने के अपने वायदे को निभाया है। खेल से जुड़ी कई पुरानी मांगें आज पूरी हुई है। सांसद श्री अरूण साव ने कहा कि बिलासपुर में खेल प्रशिक्षण  अकादमी की 15 साल पुरानी परिकल्पना आज मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने साकार कर दी है। बिलासपुर का यह खेल परिसर क्षेत्र के खिलाडियों को आगे बढ़ाने में सहायक सिद्ध होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here