कलेक्टर और एसपी दौरे कर लोगों से सीधा संवाद करें, सीएम के निर्देश

0
163

भोपाल
सरकार के आंख, नाक और कान माने जाने वाले कलेक्टर और एसपी के कामकाज की समीक्षा 193 दिन बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कर रहे हैं। कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों से मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि अब स्कूल, कालेज और अन्य सभी गतिविधियां सामान्य हो रही हैं, इसलिए जनकल्याण की योजनाओं का मैदानी आकलन करें क्योंकि आने वाले दिनों में वे खुद भी कुछ जिलों में जनकल्याण और सुराज अभियान के अंतर्गत दौरे कर लोगों से सीधा संवाद करेंगे। प्रशासन में कसावट और अनुशासन का ध्यान रखा जाए और लोगों को योजना का लाभ मिलने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

 सीएम चौहान ने कहा कि कलेक्टर ध्यान रखें कि आमजन और योजना के हितग्राही के साथ दफ्तरों में असामान्य व्यवहार के हालात नहीं बनें। उन्हें भटकने की स्थिति न बने और समस्याओं का त्वरित निदान करने पर फोकस किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका अभी बनी हुई है, इसलिए इसका ध्यान रखा जाए कि कोरोना गाइडलाइन का पालन हो। साथ ही डेंगू के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएं। वीडियो कांफ्रेंसिंग में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य और अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

कलेक्टर, कमिश्नर कांफ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने 10 मार्च को हुई पिछली बैठक में दिए गए निर्देशों के  पालन प्रतिवेदन पर चर्चा की। इसके बाद एक-एक करके अलग एजेंडों पर चर्चा शुरू हुई। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में माफिया के विरुद्ध कार्यवाही, महिला अपराध और कानून व्यवस्था की समीक्षा की। साथ ही विभिन्न कोविड कल्याण योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी ली। मुख्यमंत्री चौहान ने बारिश के दौरान जिलों में हुए पौधरोपण और एक जिला एक उत्पाद पहचान योजना के क्रियान्वयन पर भी कलेक्टरों से सीधा संवाद किया। सीएम कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर पीएसए आक्सीजन प्लांट्स के निर्माण और जल जीवन मिशन के फील्ड में क्रियान्वयन की रिपोर्ट भी लेंगे। एजेंडे में जिन अन्य मुद्दों पर चर्चा किया जाना शामिल है, उसमें स्व सहायता समूहों को दिलाए गए क्रेडिट लिंकेज की स्थापना, नगरीय क्षेत्रों में धारणाधिकार आवंटन के संबंध में राजस्व विभाग द्वारा दिए गए निर्देशों पर अमल की रिपोर्ट, प्रदेश में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत रोजगार उपलब्ध कराने के लिए रोजगार मेलों के आयोजन की समीक्षा और मनरेगा के कार्यों की समीक्षा का बिन्दु शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here