आज आधी रात को तट से टकराएगा Cyclone गुलाब

0
126

भुवनेश्वर/नई दिल्ली
चक्रवाती तूफान 'गुलाब' के लैंड फॉल को लेकर मौसम विभाग ने रविवार को बड़ी जानकारी दी है। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान 'गुलाब' के आज देर रात तक ओडिशा के गोपालपुर और आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तटों के बीच टकराने की आशंका है। शाम पांच बजे के आसपास गुलाब ओडिशा के गोपालपुर से 125 किलोमीटर और आंध्र के कलिंगपट्टनम से 160 किलोमीटर दूर था। यह 18 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। संभावना है कि कलिंगपट्टनम और गोपालपुर के बीच देर शाम से लैंडफॉल शुरू होगा और आधी रात तक यह कलिंगपट्टनम और गोपालपुर के बीच तट को पार करेगा।

इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंध्रप्रदेश के सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी से चर्चा कर 'गुलाब' से उत्पन्न हालात की समीक्षा की। पीएम ने केंद्र से हरसंभव मदद और सभी की सुरक्षा व खुशहाली की कामना की।

चक्रवात 'गुलाब' के खतरे को देखते हुए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने आज दिल्ली के ओडिशा भवन में  चक्रवात 'गुलाब' पर एक बैठक की और आवश्यक सावधानियों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि 10 जिलों में इस तूफान का प्रभाव सबसे अधिक रहने की संभावना है। पटनायक ने में राज्य के मुख्य सचिव व जिला कलेक्टरों के साथ वर्चुअल मीटिंग की। तूफान की आशंका वाले जिलों में शून्य नुकसानी का लक्ष्य तय किया। तूफान के असर से दक्षिणी तटीय जिलों में बारिश व तेज हवाएं शुरू हो गई हैं।

मौसम विभाग के अनुसार तूफान के पहले 75 से 85 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं और 95 किमी प्रति घंटे की गति से 'गुलाब' तट से टकरा सकता है। इसके असर से बहुत भारी वर्षा हो सकती है। विभाग ने रेेड मैसेज जारी किया है।

ओडिशा के राज्य के राहत आयुक्त पीके जेना ने मीडिया को बताया कि ओडिशा के तटीय 11 जिलों में हमने एनडीआरएफ की 24 और ओडीआरएफ की 42 टीमें तैनात की हैं। गजपति व गंजाम जिलों से 5000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। ओडिशा सरकार के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, सात जिलों- गजपति, गंजम, रायगढ़ा, कोरापुट, मल्काजगिरि, नबरंगपुर और कंधमाल- को हाई अलर्ट पर रखा गया है क्योंकि भारत के मौसम विभाग (आईएमडी) ने बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान बनने का पूर्वानुमान लगाया है। आईएमडी के पूर्वानुमान के मुताबिक तूफान दक्षिणी ओडिशा और पड़ोसी आंध्र प्रदेश के तट की ओर बढ़ सकता है।

अगले तीन दिनों के दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी और ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में मछुआरों को 25 से 27 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी के पूर्वी-मध्य और उत्तरपूर्वी क्षेत्र में समुद्र में जाने से मना किया गया है।

केंद्रीय कैबिनेट सचिव गौबा ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 18 टीमों को दोनों राज्यों के तटीय क्षेत्रों में तैनात किया गया है।  उन्होंने यह भी बताया कि आपात स्थिति में अतिरिक्त टीमों को तैयार रहने के निर्देश दिए गए हैं। केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने कहा कि जहाजों और विमानों के साथ सेना और नौसेना के बचाव और राहत दल भी तैनात किए गए हैं।

पाकिस्तान ने इस तूफान का नाम 'गुलाब' रखा है। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी के पूर्व-मध्य से यह तूफान उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। यह देर शाम तक आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटीय इलाकों से जाकर टकराएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here