30 लाख सालाना यात्रियों की क्षमता वाला बनेगा दरभंगा एयरपोर्ट का टर्मिनल

0
135

पटना
राज्य सरकार अगर जमीन मुहैया करा देती है, तो दरभंगा एयरपोर्ट का आकार बढ़ कर वर्तमान से चौगुना हो जायेगा. फिलहाल नागरिक उड्डयन विभाग की ओर से दरभंगा एयरपोर्ट के लिए 78 एकड़ जमीन की मांग गयी है, जबकि वर्तमान में दरभंगा एयरपोर्ट 22 एकड़ में बना है.

दरअसल, 25 अगस्त को नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पत्र भेज कर दरभंगा समेत बिहार की पांच जगहों पर एयरपोर्ट के निर्माण या विकास के लिए जमीन की मांग की और इसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपने स्तर पर प्रयास करने का आग्रह किया. दरभंगा के लिए पत्र में 78 एकड़ जमीन की मांग की गयी है.

दरभंगा एयरपोर्ट पर सिविल एनक्लेव के निर्माण से जुड़े एयरपोर्ट ऑथोरिटी के एक वरीय अधिकारी की मानें, तो यदि राज्य सरकार की ओर से जमीन मुहैया करा दी जाती है ,तो वर्तमान से कम- से- कम चौगुने आकार का सिविल एनक्लेव दरभंगा एयरपोर्ट पर बनेगा. विदित हो कि दरभंगा एयरपोर्ट का वर्तमान सिविल एनक्लेव 22 एकड़ में ही बना है.

दरभंगा एयरपोर्ट का वर्तमान टर्मिनल भवन अस्थायी पोर्टा केबिन से बना है. इसके एराइवल और डिपार्चर एरिया की क्षमता केवल 200 है. क्रू मेंबर्स समेत केवल एक विमान के यात्री एक समय में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं, जबकि वर्तमान में यहां से मुंबई, दिल्ली , कोलकाता व बेंगलुरु जैसे बड़े महानगरों को 12 फ्लाइट आती और जाती हैं. ऐसे में कई बार विमानों के लेट हो जाने पर दो- तीन विमान के यात्री यहां एक साथ जमा हो जाते हैं, जिससे उन्हें परेशानी होती है.

पिछले आठ-नौ महीने में जिस तेजी से दरभंगा एयरपोर्ट से आने जाने वाले यात्रियों की संख्या बढ़ी है, उससे अगले एक -दो सालों में यहां से आने जाने वाले विमानों की संख्या बढ़ कर 25 तक हो जाने का अनुमान लगाया जा रहा है.

यह वर्तमान से लगभग दोगुनी होगी. ऐसे में वर्तमान आकार से चौगुने आकार का टर्मिनल यहां की जरूरत होगी, जिसके बनने पर डिपार्चर और एराइवल एरिया में एक साथ चार विमानों के यात्रियों के बैठने की सुविधा हो जायेगी. इससे कई फ्लाइटों के यात्रियों के एक साथ जुटने के बावजूद उन्हें असुविधा नहीं होगी.

एयरपोर्ट पर आने -जाने वाले लोगों के वाहनों की पार्किंग के लिए मल्टी लेवल पार्किंग बनेगी. इसकी क्षमता कम- से -कम 500 चारपहिया वाहनों की होगी ताकि लोगों को वाहन खड़ा करने में परेशानी नहीं हो. साथ ही कनेक्टिंग रोड का भी निर्माण किया जायेगा.

वर्तमान में दरभंगा एयरपोर्ट पर सिविल एनक्लेव में कोई एप्रन नहीं बना है और विमानों को एयरफोर्स के एरिया में उसके विमानों को खड़ा करने के लिए बनी जगह पर पार्क करना पड़ता है. ऐसे भी अधिकतम दो विमानों को ही वहां खड़ा किया जा सकता है. 78 एकड़ जमीन मिलने पर विमानों को खड़ा करने के लिए कम- से- कम पांच पार्किंग वे का वहां निर्माण किया जायेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here