2050 तक भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा आयातक होगा 

0
176

 नई दिल्ली 
बढ़ते मध्यम वर्ग और इसके बढ़ते विवेकाधीन खर्च के साथ, भारत 2050 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा आयातक बन जाएगा। भारत वैश्विक आयात में 5.9% की हिस्सेदारी के साथ चीन और अमेरिका के ठीक पीछे होगा। एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्व अर्थव्यवस्थाओं के बीच वर्तमान अनुमानित रैंकिंग के हिसाब से भारत 2.8% आयात हिस्सेदारी के साथ सबसे बड़े आयातक देशों में आठवें स्थान पर है और 2030 तक चौथा सबसे बड़ा आयातक बनने के लिए तैयार है।

घटेगी अमेरिका और यूरोपीय संघ की हिस्सेदारी
अमेरिका और यूरोपीय संघ के अधिकांश आयात क्षेत्रों में हिस्सेदारी 2030 तक घटने की उम्मीद है क्योंकि एशिया के मध्यम वर्ग के खातों में क्रय शक्ति बढ़ रही है। यह परिवर्तन विशेष रूप से खाने-पीने के सामान, यात्रा और डिजिटल सेवा क्षेत्रों में चिह्नित किया गया है। यूके के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार विभाग द्वारा जारी नवीनतम ग्लोबल ट्रेड आउटलुक रिपोर्ट में यह कहा गया है।
 
चीन को लेकर ज्यादा उम्मीदें
चीन इस आर्थिक बदलाव का एक प्रमुख चालक है क्योंकि इसके 2030 तक दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की उम्मीद है। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि भारत 2050 तक दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की रैंकिंग में चीन और अमेरिका के बाद, वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद में 6.8% की हिस्सेदारी के साथ तीसरे स्थान पर पहुंच जाएगा। वर्तमान में, भारत विश्व की अर्थव्यवस्थाओं के आकार में 3.3% की हिस्सेदारी के साथ पांचवें स्थान पर है। भारत की जीडीपी चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए 2030 तक जर्मनी को पार करने का अनुमान है।

सात अर्थव्यवस्थाएं दिखा रही दम
सात सबसे बड़ी उभरती अर्थव्यवस्थाओं- चीन, भारत, ब्राजील, रूस, इंडोनेशिया, मैक्सिको और तुर्की के 'ई7 समूह' के 2050 तक वैश्विक आयात मांग में जी7 के हिस्से के बराबर होने का अनुमान है। दुनिया के सात सबसे अमीर देश- कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूके और यूएस- जी7 समूह का हिस्सा हैं। वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद में जी7 की हिस्सेदारी 2000 में 65% से गिरकर 2020 में 46% हो गई, जबकि 'ई7' की हिस्सेदारी 11% से बढ़कर 28% हो गई। अगले तीस वर्षों में, ई7 में श्रम उत्पादकता वृद्धि जी7 की दर से लगभग दोगुनी बढ़ने की उम्मीद है। 2030 के दौरान ई7 आर्थिक आकार में जी7 से आगे निकल जाएगा। हालांकि, रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि उभरती अर्थव्यवस्थाओं को बड़ी चुनौतियों का भी सामना करना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here