इटली दौरे की नहीं दी इजाजत- केंद्र सरकार ने ममता बनर्जी को ‘पीस सम्मेलन’ में जाने से रोका

0
110

कोलकाता
केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस साल अक्टूबर में इटली में होने वाले विश्व शांति सम्मेलन में भाग लेने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, पॉलिटिकल एंगल से मंजूरी अस्वीकार की गई है। साथ ही कहा गया है कि यहां किसी राज्य के मुख्यमंत्री की भागीदारी स्थिति के अनुरूप नहीं है। इससे पहले ममता बनर्जी को चीन जाने की केंद्र सरकार से इजाजत नहीं मिली थी।

सम्मेलन में जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, पोप फ्रांसिस और इटली के प्रधान मंत्री मारियो ड्रैगी भाग लेंगे। यह कार्यक्रम मदर टेरेसा पर केंद्रित होगा। यह कॉन्‍फ्रेंस इस साल 6, 7 अक्‍टूबर को इटली के रोम में आयोजित की जानी है। इससे पहले इटली सरकार ने ममता बनर्जी से अनुरोध किया था कि वे किसी प्रतिनिधि मंडल के साथ न आएं। जिसके बाद सीएम ममता बनर्जी ने उद्योग प्रतिनिधिमंडल की मंजूरी का प्रस्ताव दिया और इसके लिए विदेश मंत्रालय से अनुरोध किया। लेकिन, मंजूरी नहीं दी गई।
 
ममता बनर्जी एकमात्र भारतीय नेता हैं जिन्‍हें इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बुलावा भेजा गया है। ममता बनर्जी को यह निमंत्रण रोम के कैथलिक संगठन कम्‍युनिटी ऑफ सेंट एजिडिओ के प्रेसिडेंट मार्को इम्‍पैगलियाजो ने भेजा है। उधर टीएमसी के प्रवक्ता देबांग्शु भट्टाचार्य देव ने ममता बनर्जी को अनुमति नहीं दिए जाने पर विरोध जताया है।
 

देवांग्शु भट्टाचार्य देव ने ट्वीट कर लिखा कि, केंद्र सरकार ने दीदी की रोम यात्रा की अनुमति नहीं दी। पहले वे चीन यात्रा की अनुमति भी रद्द कर चुके हैं। हमने अंतरराष्ट्रीय संबंधों और भारत के हितों को ध्यान में रखते हुए उस फैसले को स्वीकार किया। अब इटली क्यों मोदी जी ? बंगाल से आपको क्या दिक्कत है? छी! ममता बनर्जी इससे पहले एक बार और साल 2016 में रोम जा चुकी हैं। उस समय मदर टेरेसा को संत की उपाधि दी जा रही थी। उसमें शामिल होने के लिए ममता बनर्जी को निमंत्रित किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here