स्वामित्व योजना : PM मोदी ने सीहोर, हरदा और डिंडौरी बांटे में अधिकार पत्र

0
80

भोपाल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रदेश के 19 जिलों के तीन हजार गांवों के एक लाख 71 हजार लोगों को अधिकार अभिलेख का वितरण वर्चुअली किया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामित्व योजना के दायरे में आने के बाद इसके फायदे गिनाते हुए मालिकाना हक पाने वालों को बधाई दी। इसमें हरदा जिले में आबादी क्षेत्र में सर्वे और भू-मापन से निजी भूखंडों का मूल्यांकन 710 करोड़ रुपए का किया गया है।

पीएम मोदी ने सौर ऊर्जा से रोशन सभी विभागीय आंगनबाड़ी केंद्रों का भी लोकार्पण किया। इसके साथ ही बांस मिशन के अंतर्गत किसानों द्वारा किए गए रोपण की अनुदान राशि भी वर्चुअली प्रदान की गई। पीएम मोदी ने 6 हजार से अधिक टीके लगाने वाली नर्सों का सम्मान किया और एक जिला एक उत्पाद योजना में मोमेंटो भी वर्चुअली लोगों को बांटे। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा हरदा में मंत्री कमल पटेल, गोविन्द सिंह राजपूत, तुलसी सिलावट, सांसद डीडी उइके भी मौजूद रहे।

कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने अपना संबोधन भी दिया। पीएम मोदी ने कहा कि आज मध्यप्रदेश के 3,000 गांवों के 1.70 लाख से अधिक परिवारों को मिला प्रॉपर्टी कार्ड उनकी समृद्धि का साथी बनेगा। ये लोग डिजि-लॉकर के माध्यम से अपने मोबाइल पर अपना प्रॉपर्टी कार्ड डाउनलोड भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि स्वामित्व योजना सिर्फ कानूनी दस्तावेज देने की योजनाभर नहीं है, बल्कि ये आधुनिक टेक्नॉलॉजी से देश के गांवों में विकास और विश्वास का नया मंत्र भी है।

शुरुआती चरणों में स्वामित्व योजना को मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, कर्नाटक और राजस्थान के कुछ गांवों में लागू किया गया था। इन राज्यों में गांवों में रहने वाले करीब 22 लाख परिवारों के लिए प्रॉपर्टी कार्ड तैयार हो चुका है। उन्होंने कहा कि हमने कोरोना काल में देखा है कि कैसे भारत के गांवों ने मिलकर एक लक्ष्य पर काम किया, बहुत सतर्कता के साथ इस महामारी का मुकाबला किया। बाहर से आए लोगों के लिए रहने के अलग इंतजाम हों, भोजन और काम की व्यवस्था हो, वैक्सीनेशन से जुड़ा काम हो, भारत के गांव बहुत आगे रहे।

देश के गांवों को, गांवों की प्रॉपर्टी को, ज़मीन और घर से जुड़े रिकॉर्ड्स को अनिश्चितता और अविश्वास से निकालना बहुत जरूरी है। इसलिए पीएम स्वामित्व योजना, गांव के हमारे भाइयों और बहनों की बहुत बड़ी ताकत बनने जा रही है। उन्होंने कहा कि स्वामित्व योजना, सिर्फ कानूनी दस्तावेज देने की योजना नहीं है, बल्कि ये आधुनिक टेक्नॉलॉजी से देश के गांवों में विकास और विश्वास का नया मंत्र भी है। ये जो गांव-मोहल्ले में ड्रोन उड़ रहा है, वो भारत के गांवों को नई उड़ान देने वाला है।

पीएम मोदी ने कहा कि बीते 6-7 वर्षों के हमारी सरकार के प्रयासों को देखें, तो हमने प्रयास किया है कि गरीब को किसी तीसरे व्यक्ति के सामने हाथ नहीं फैलाना पड़े। आज खेती की छोटी-छोटी जरूरतों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि के तहत सीधे किसानों के बैंक खातों में पैसा भेजा जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुद्रा योजना में भी लोगों को अपना काम शुरू करने के लिए बैंकों से बिना गारंटी ऋण का अवसर दिया है। इस योजना के तहत पिछले 6 वर्षों में करीब 29 करोड़ ऋण दिए गए हैं, करीब 15 लाख करोड़ रुपये की ऋण राशि दी गई है।

स्वामित्व योजना से ये मिलेंगे लाभ

  • आबादी भूमि के कागजात मिल जाने से कानून का सहारा मिलने लगेगा।
  • अपनी मर्जी से घर बनाने और अतिक्रमण की समस्या से निजात मिलेगी।
  • सम्पत्ति का रिकॉर्ड हो जाने से बैंक लोन लिया जा सकेगा।
  • भूमि संबंधी विवाद भी खत्म होंगे।
  • जमीन एवं भवन के नामांतरण एवं बंटवारे आसानी से हो सकेंगे।
  • सरकारी भवन भी योजनाबद्ध तरीके से निर्मित किये जा सकेंगे।
  • गांव में आबादी की भूमि को लेकर भ्रम की स्थिति खत्म होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here