दरभंगा एअरपोर्ट शुरू होने से अब हर माह 100 करोड़ तक का हो रहा कारोबार

0
136

दरभंगा
वक्त के साथ बदलाव की गतिशीलता आदमी-समाज की तरक्की का पैमाना भी होती है. बिहार के अनेक क्षेत्रों में बदलाव हुए हैं. सड़कों की हालत अच्छी हुई है, इसका प्रभाव भी दिख रहा है. गांवों तक बिजली पहुंची ही नहीं, बल्कि रह भी रही है. राज्य के प्रमुख जिला मुख्यालयों को हवाई मार्ग से जोड़ने का काम भी शुरू हो गया है. दरभंगा एयरपोर्ट व्यावसायिक उड़ान के मामले में रिकॉर्ड बना रहा है.

लोगों ने शायद पहले सोचा भी नहीं होगा कि दरभंगा जैसे छोटे शहर से हवाई सेवा शुरू हो सकती है. अगर शुरू होगी भी, तो सवारी नहीं मिल पायेगी. ऐसे सारे अनुमान अब हवा हो गये. दरभंगा से उड़ान शुरू ही नहीं हुई, बल्कि चल निकली. इसका असर यह हुआ कि दरभंगा अंचल के कारोबार में कम-से-कम 80 से 100 करोड़ रुपये प्रति माह का इजाफा हो गया. ऐसा आवागमन तेज और आसान होने की वजह से हुआ है. इस तरह स्थानीय व्यापार में सालाना 1200 करोड़ तक की बढ़ोतरी संभावित है.

व्यापार की बढ़ोतरी की दर 15-20 प्रतिशत तक आंकी जा रही है. व्यापार विशेषज्ञों के मुताबिक हवाई सुविधा शुरू होने से पटना, भागलपुर और मुजफ्फरपुर के बाद अब दरभंगा प्रदेश का बड़ा ट्रेड हब के रूप में विकसित होने की राह पर है. जानकारों के मुताबिक दरभंगा की अर्थव्यवस्था उपभोग आधारित है. बाजार में इतना पैसा आने से न केवल रोजगार में इजाफा होगा, बल्कि उद्यमियों के पास निवेश योग्य पूंजी भी आयेगी.

व्यापार में दर्ज किये गये इजाफे में सबसे बड़ी भागीदारी मशीनरी और वस्त्र व्यापार से संबंधित है. शेष क्षेत्रों में अभी सीमित इजाफा हुआ है. प्रदेश में भागलपुर सिल्क और सूत्री वस्त्र के कारोबार का सबसे बड़ा सेंटर मुजफ्फरपुर है. दरभंगा तीसरे बड़े व्यापारिक सेंटर के रूप में पहचान बनाने जा रहा है. दरअसल, दरभंगा इन दोनों शहरों के व्यापार को हवाई रूट दे रहा है. प्रदेश की आर्थिक तरक्की में अब संतुलित विकास हो सकेगा.

दरभंगा एयरपोर्ट पर कॉमर्शियल फ्लाइट चालू होने के बाद से अब तक चार लाख से अधिक यात्री हवाई सफर कर चुके हैं. इनमें से 33% लोग वे युवक हैं, जो रोजी-रोटी के लिए जाने के लिए फ्लाइट पकड़ते हैं. यात्रियों से की गयी बातचीत पर आधारित आकलन के मुताबिक हर दूसरा युवक पहली बार घर से निकला है.

इस तरह करीब सवा लाख युवकों में करीब 50% युवक पहली बार रोजी-रोटी कमाने गये हैं. अगर पहली बार कमाने गये युवक हर माह अपने घर पांच हजार रुपये भी भेजते हैं, तो माह में 30 करोड़ और साल में 3.60 अरब रुपये लोगों के घरों में पहुंचेंगे.

दरभंगा से हवाई सेवा चालू हो जाने से मिथिला क्षेत्र के प्रसिद्ध उत्पादों को बड़ा बाजार मिलने की शुरुआत हो गयी है. उदाहरण के लिए मुजफ्फरपुर की शाही लीची के पहले मौसम में दरभंगा हवाई अड्डे से इस साल 35 टन शाही लीची दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद और बेंगलुरु भेजी गयी. दरभंगा एयरपोर्ट अथॉरिटी के मुताबिक जैसे ही कार्गो की अतिरिक्त सुविधा मिलती है, दरभंगा की प्रसिद्ध मछली और ताराबाई पान को भी देश-विदेश का नया बाजारा मिलेगा. इससे सीधे तौर पर दरभंगा अंचल के हजारों परिवारों की आर्थिक आय में इजाफा होगा.

दरभंगा के लिए हवाई उड़ान समूचे मिथिलांचल में चिकित्सीय सुविधा देने के लिहाज से खास साबित हुई है. दिल्ली और गुरुग्राम से नामी-गिरामी चिकित्सक दरभंगा आ रहे हैं. अभी उनकी आवाजाही माह में एक बार हो रही है. हालांकि, कुछ एक निजी चिकित्सा संस्थानों में वह माह में दो बार आ रहे हैं. मरीजों को कठिन रोगों का बेहतर इलाज अपने शहर में मिल पा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here