जनजातीय समाज के उत्थान के लिए कार्य करना पुण्य का काम – राज्यपाल पटेल

0
98

भोपाल

राज्यपाल मंगूभाई पटेल डिण्डोरी जिले के शहपुरा क्षेत्र के जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां की रजत जयंती समारोह कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। राज्यपाल पटेल ने कहा कि जनजातीय कल्याण केन्द्र द्वारा आदिवासी, गरीब एवं पिछड़े समाज के उत्थान के लिए सराहनीय कार्य किया जा रहा है, यह कार्य पुण्य का है। मध्यप्रदेश सरकार भी जनजातीय समाज के विकास को प्राथमिकता से सुनिश्चित कर रही है। जनजातीय समाज को मुख्य धारा से जोड़ने के लिए हम सभी के सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है। सरकार अब जनजातीय समाज के लिए भी समावेशी विकास, सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास एवं सबका प्रयास की मंशा के साथ काम कर रही है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि जनजातीय समाज की समस्याओं को समझते हुए उनका निराकरण आवश्यक है। जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां यह कार्य पूरी निष्ठा के साथ कर रहा है।

जनजातीय समाज की विशेषताओं को संरक्षित रखना महत्वपूर्ण

राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने कहा कि जनजातीय समाज की संस्कृति को संरक्षित रखते हुए उनकी विशेषताओं को बनाए रखना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जनजातीय समाज अमिट मूल्यों से परिपूर्ण एवं सादगी पसंद समाज है। जनजातीय समाज की कलाकृतियों में समय की गहराई का गुण विद्यमान होता है। इनकी कलाकृतियाँ समय से परे होती है। पटेल ने जनजातीय समाज के लोगों में काष्ठशिल्प, हस्तशिल्प, चित्रकारिता, संगीत एवं नृत्य की अनूठी शैलियों एवं गुणों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि जनजातीय कलाकारों को आगे लाने के लिए विशेष प्रयास करने होंगे।

पौधो रोपें, उन्हें संरक्षित करें

राज्यपाल पटेल ने अपने संबोधन में जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां द्वारा किए जा रहे वृक्षारोपण कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि जनजातीय कल्याण केन्द्र प्रकृति की गोद में स्थित है और प्रकृति के लिए विशेष रूप से कार्य कर रहा है। हम सभी को पौधे अवश्य लगाना चाहिए। साथ ही इन पौधों का संरक्षण सुनिश्चित करते हुए धरती माता को बचाने के लिए अपना योगदान देना चाहिए। पटेल ने कोविड संकट के दौरान पूरी दुनिया में ऑक्सीजन की कमी का जिक्र करते हुए इस परिस्थिति से सभी को सीख लेने की बात भी कही।

बेटियों को पढ़ाएँ, उन्हें आत्म-निर्भर बनाएँ

राज्यपाल पटेल ने कहा कि जनजातीय समाज में महिलाओं की स्थिति को मजबूत करने के लिये उनकी शिक्षा और आत्म-निर्भरता जरूरी है। सभी अपनी बेटियों को पढ़ाएँ, आगे बढ़ाएँ और उन्हें आत्म-निर्भर बनाएँ। पटेल ने केन्द्र सरकार एवं मध्यप्रदेश सरकार द्वारा बेटियों की प्रगति एवं महिला सशक्तिकरण के लिए संचालित योजनाओं का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं के लाभ से जनजातीय समाज की बेटियों एवं महिलाओं का सशक्तिकरण सुनिश्चित होगा।

गरीबों एवं पिछड़े समाज के प्रति संवेदनशीलता रखें

पटेल ने कहा कि भारत की कुल जनसंख्या का लगभग 21 प्रतिशत हिस्सा जनजातीय समाज का है। गरीब एवं पिछड़े जनजातीय समाज की प्रगति के लिए हम सभी में संवेदनशीलता होना आवश्यक है। उन्होंने उपस्थित जनजाति अधिकारियों एवं कर्मचारियों से भी आव्हान किया कि वे अपने स्तर पर अपने समाज को पढ़ाने एवं आगे बढ़ाने में योगदान दें तथा हरसंभव मदद करें।

प्रारंभ में राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने जनजातीय कल्याण केन्द्र बरगवां के परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने केन्द्र में संचालित विभिन्न गतिविधियों के साथ प्रशासनिक परिसर का अवलोकन किया। पटेल ने केन्द्र में गौ-पूजन किया। कार्यक्रम का शुभारंभ भारत माता, बिरसा मुंडा एवं रानी दुर्गावती के छायाचित्रों पर माल्यार्पण के साथ हुआ। जनजातीय कल्याण केन्द्र के अध्यक्ष मनोहर लाल साहू ने स्वागत भाषण में केन्द्र की विभिन्न गतिविधियों का ब्यौरा दिया। राज्यपाल पटेल ने जनजातीय केन्द्र की गतिविधियों पर आधारित ’वर्तिका पुस्तिका’ का विमोचन किया। राज्यपाल पटेल जनजातीय कल्याण केन्द्र के भोजनालय का शुभारंभ कर विद्यार्थियों के साथ सहभोज में शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here