मणि कंचन केंद्र से मिला 58 महिलाओं को रोजगार, हर महीने 6 हजार कमा रहीं महिलाएं

0
116

बलौदाबाजार
नगरपालिका परिषद द्वारा  3 मणि कंचन केंद्र संचालित किये जा रहे हैं। तीनों मणि कंचन केंद्र में 58 महिलाएं विभिन्न प्रकार के कार्य कर हर माह 6 हजार रुपए की आय प्राप्त कर रही हैं। यह महिलाएं विभिन्न स्व सहायता समूह से जुड़ी हुई हैं । इनके द्वारा गोबर की लकड़ी, गोबर के दीए और गोबर की खाद बनाने का कार्य किया जा रहा है।

बलौदाबाजार नगर के वार्ड क्रमांक 10 में स्थित मणि कंचन केंद्र की सुपरवाइजर सुनीता साहू ने बताया कि मणिकांचन केंद्र खोलने के बाद महिलाओं के लिए रोजगार का एक नया जरिया बन गया है । यह कार्य शुद्ध होने के बाद हम सभी महिलाओं में एक नया हौसला जागृत हुआ और आत्मविश्वास आया। महिलाओं का कहना है कि इस कार्य के शुद्ध होने से कम से कम उनके परिवार के बच्चों का पालन पोषण और शिक्षा का कार्य आसानी से हो रहा है। इसके पहले वह आर्थिक तंगी से गुजर कर बहुत लाचार और बेबस महसूस करती थी। बायो कंपोस्ट जैविक खाद बनाने के लिए महिलाएं इसी वार्ड में स्थित सब्जी बाजार से सब्जियों के अवशेष उठाकर लाती हैं। जिससे जैविक खाद का निर्माण किया जाता है। प्रतिमाह सिर्फ इसी केंद्र में प्रतिदिन 10 क्विंटल खाद का निर्माण किया जा रहा है। आने वाली नवरात्रि पर्व एवं दीपावली को देखते हुए इन महिलाओं द्वारा गोबर के दीयों का निर्माण किये जा रहे हैं। अभी तक इस केंद्र में 1500 गोबर के दीए बनाए जा चुके हैं। यह गोबर के दिए 30 रुपए प्रति दर्जन में विक्रय किए जाते हैं। अभी तक गोबर की लकड़ी तकरीबन 5 क्विंटल बेची जा चुकी है। यह लकड़ी 10 रुपए प्रति किलो में बिक्री की जाती है। तकरीबन 40 क्विंटल गोबर  से बनी लकड़ी अभी भी स्टॉक में उपलब्ध है।

गोबर की लकड़ी से भी बड़े पैमाने पर महिलाएं आय अर्जित कर सफलतापूर्वक अपना जीवन यापन कर रही हैं। इसके अलावा भैसा पसरा स्थित समुदाय विशेष की निर्धन गरीब बस्ती के लोग जो पॉलिथीन एवं प्लास्टिक का कचरा बीनने का काम करते हैं । उनके द्वारा भी इस मणि कंचन केंद्र में प्लास्टिक संबंधी वस्तुओं और कचरा एकत्रित कर उनकी छटाई की जाती है। और उसका विक्रय किया जाता है। इस विक्रय कार्य मैं तकरीबन 14-15 महिलाएं अपना रोजगार सृजित कर रहे हैं। इनके द्वारा लाए गए प्लास्टिक कचरे को मणिकांचन केंद्र में छटाई की जाती है। उसके पश्चात प्राप्त सभी प्लास्टिक सामग्री सफेद प्लास्टिक, पन्नी, लोहा, टीना प्लास्टिक की बोतल इत्यादि बड़े पैमाने पर इक_ा होती है और बिक जाती हैं। इसके माध्यम से 15 महिलाएं प्रति जोड़ी 6000 रुपए की मासिक आय अर्जित करती हैं। यह सारा कार्य नगर पालिका के मार्गदर्शन में संचालित होता है।

गरीब निर्धन बस्ती की महिलाओं को मणिकंचन केन्द्र से बहुत बड़ा सहारा मिला है। और उनके जीवन स्तर में सुधार आया है। मणि कंचन केंद्र में काम करने वाली ज्योति दीपा ने बताया कि वह रिक्शा चलाकर वादों से कचरा संकलित करके लाते हैं। और इसी के माध्यम से 6000 रुपए महीने की आय अर्जित कर रही है। पूर्व में इनके पास कोई रोजगार नहीं था। जिसके कारण घर चलाने में भी कठिनाई होती थी। यह रोजगार प्राप्त होने से उनके घर के छोटे मोटे खर्चे निकल जाते हैं। और काफी अच्छा महसूस कर स्वयं रोजगार प्राप्त करने के बाद उन्हें गर्व महसूस होता है कि वह चार पैसे स्वयं अपने लिए कमाते हैं । वार्ड क्रमांक 7 की निवासी दिव्यांग 22 वर्षीय रोशनी पुराना एवं माया सागर उम्र 30 वर्ष बेरोजगार थी। इन्हें भी मणिकांचन केंद्र में काम मिला। दिव्यांग होने के बावजूद रोशनी पुरैना ने अपने जीवन में गोबर के दीयों का निर्माण कर एक नई रोशनी प्रकाशित की। इन्हें भी प्रतिमाह 6000 रुपए महीने की आय हो रही है। रिक्शा चलाने वाली ठगनी एवं दीपा काफी मेहनत करती हैं और लगातार इनके द्वारा नियमित रूप से प्रतिदिन विभिन्न वार्डों में जाकर कचरा संकलन का कार्य किया जाता है। यह अपनी आय एवं जीवन से संतुष्ट हैं। इसके पहले बेरोजगारी का दंश झेल रही थी एवं परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी । मणि कंचन केंद्र खोलने से नगर की महिलाओं को स्वरोजगार का अवसर प्राप्त हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here