सीएम योगी सवा लाख आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को आज बांटेंगे स्मार्ट फोन, इन्फेन्टोमीटर भी दिया जाएगा

0
116

लखनऊ 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को स्मार्टफोन का तोहफा देंगे। प्रदेश के 1 लाख 23 हजार से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को स्मार्टफोन वितरण किया जाएगा। इसके साथ ही इन्फेन्टोमीटर भी वितरित होगा। कार्यक्रम में लखनऊ व उन्नाव की 30 कार्यकत्रियों को फोन व इन्फेन्टोमीटर सीएम योगी अपने हाथों से देंगे। नवजात बच्चों की वृद्धि नापने के लिए आंगनबाड़ी केंद्र को नवजात वृद्धि निगरानी यंत्र (इंफेंटोमीटर) दिया जा रहा है। स्मार्ट फोन से लैस होने के बाद बच्चों के पुष्टाहार और देखभाल समेत आंगनबाड़ी से संचालित होने वाली योजनाओं को ज्यादा प्रभावी तरीके से लागू किया जा सकेगा। वहीं इस स्मार्टफोन के माध्यम से भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगेगा। बता दें उत्तर प्रदेश में इस समय 1.89 लाख आंगनबाड़ी केंद्र चल रहे हैं। 

एक अक्तूबर से आंगनबाड़ी केन्द्रों में शुरू हो सकती है पढ़ाई
प्रदेश के आंगनबाड़ी केन्द्रों में एक अक्तूबर से पढ़ाई शुरू हो सकती है। बाल विकास पुष्टाहार विभाग ने प्रस्ताव शासन को भेज दिया है। इन केन्द्रों पर तीन से छह वर्ष तक की उम्र के बच्चों के लिए प्री प्राइमरी की कक्षाएं नई शिक्षा नीति के तहत शुरू की जानी हैं। प्रदेश के 1.85 लाख केन्द्रों पर पढ़ाई होनी है। पहले चरण में 1.15 लाख उन केन्द्रों से शुरुआत होगी जहां केन्द्र स्कूल परिसर में बने हुए हैं। बेसिक शिक्षा विभाग प्री प्राइमरी के लिए एक प्राइमरी शिक्षक को नोडल बनाएगा। यह शिक्षक अपनी कक्षाएं देखने के साथ ही आंगनबाड़ी केन्द्रों में चल रही पढ़ाई पर भी नजर रखेगा। इसके लिए समग्र शिक्षा अभियान, बेसिक शिक्षा विभाग व बाल विकास पुष्टाहार विभाग मिल कर तैयारी कर रहे हैं। पढ़ाने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और ‘प्ले वे किट’ की खरीद भी हो चुकी है। अभी तक 90 हजार आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। वहीं बाकी बची 30 हजार कार्यकत्रियों का प्रशिक्षण अक्तूबर में कराने की योजना है। प्राइमरी शिक्षकों का प्रशिक्षण भी चालू है।  

तैयार हो चुका है पाठ्यक्रम 
यूनिसेफ की किताब पहल को भी राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद ने प्री प्राइमरी के लिए तैयार कर दिया है। प्री प्राइमरी के लिए पाठ्यक्रम उम्र के हिसाब से होगा। तीन से चार साल, चार से पांच वर्ष और पांच से छह वर्ष के बच्चों के लिए अलग-अलग पाठ्यक्रम चलाया जाएगा। 

स्कूल रेडिनेस प्रोग्राम 
पांच से छह वर्ष के बच्चों को कक्षा एक में पढ़ाई जाने वाली चीजों के लिए तैयार करने के लिए स्कूल रेडिनेस कार्यक्रम चलेगा। तीन महीने के इस माड्यूल में बच्चों को बुनियादी चीजें सिखाई जाएंगी। पांच से छह वर्ष के बच्चों के लिए दो तरह के मॉड्यूल होंगे। एक वह जिसमें बच्चे पूरे वर्ष पढ़ाई करेंगे, दूसरा वह जिसमें तीन महीने की तैयारी के साथ बच्चों का प्राइमरी स्कूल में प्रवेश कराया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here