एक साथ 4 अर्थियां देख नहीं रुके लोगों के आंसू, छाया मातम

0
125

रायसेन
मध्य प्रदेश के रायसेन जिले से दुखद खबर है. यहां के सुल्तानपुर में मातम छाया हुआ है. रविवार को एक साथ एक ही घर की चार अर्थियां देख पूरा सुल्तानपुर फफक-फफक कर रोया. यहां रहने वाले वंशकार परिवार पर वज्रापात हुआ है. मां की अस्थियां विसर्जित कर वापस आ रहे परिजन सड़क हादसे का शिकार हो गए. परिवार के 4 सदस्यों की मौत हो गई. पिता ने बेटे को मुखाग्नि दी.

जानकारी के मुताबिक, वंशकार परिवार के सदस्यों के साथ हादसा रीवा जिले के सिंगल किटवारिया बायपास पर शुक्रवार देर रात हुआ. वंशकार परिवार के  सदस्य टवेरा से आ रहे थे. इस दौरान उनकी टक्कर ट्रक से हो गई. टक्कर में सुल्तानपुर के वार्ड नंबर 4 गौर मोहल्ला के निवासी शशि वंशकार (50), विनोद वंशकार (27), वैशाली वंशकार (16) और मयंक वंशकार (16) की मौत हो गई. हादसे के बाद चीख-पुकार मच गई. टवेरा में 14 सदस्य सवार थे. पुलिस ने शनिवार को शवों का पोस्टमार्टम कराया और शाम 4 बजे शवों को दो एंबुलेंस से सुल्तानपुर भेजा गया. ये शव देर रात करीब 3 बजे शव सुल्तानपुर पहुंचे. इसके बाद से मोहल्ले में मातम छा गया. चारों शवों को घर के बाहर रख दिया गया.

रविवार को जब गौर मोहल्ले में चारों अर्थियां एक साथ उठीं, तो लोग अपने आंसू नहीं रोक पाए. कई लोग तो इसे देखने तक कि हिम्मत नहीं कर सके. परिजनों-पड़ोसियों की जुबान जैसे सिल गई हो. सभी का बुरा हाल था. अंतिम संस्कार में गांव वालों की भीड़ लग गई. श्मशान घाट में सभी का एक साथ अंतिम संस्कार किया गया. गौरेलाल वंशकार के बड़े बेटे कमलेश वंशकार ने अपने बेटे मयंक, भतीजी वैशाली और छोटे भाई विनोद को मुखाग्नि दी.

गौरतलब है कि शनिवार को रीवा शहर के चोरहटा थाना के किटवरिया बायपास पर भीषण सड़क हादसा हो गया था. इस हादसे में 4 लोगों की मौत हो गई थी. मृतक और घायल रायसेन के सुल्तानपुर के वंशकार परिवार के थे. ये सभी उत्तर प्रदेश के प्रयागराज से अस्थियां विसर्जित कर लौट रहे थे. इस बीच सामने से आ रहे ट्रक ने उनकी टवेरा को टक्कर मार दी. हादसे में 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें इलाज के लिए संजय गांधी अस्पताल भेजा गया. शव जीप में बुरी तरह से फंस गए थे. गैस कटर से जीप की बॉडी काटकर शवों को निकालना पड़ा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here